Turkey-Syria: तुर्की में सीरिया विरोधी दंगे, सीरियाई शहरों में भी भड़की हिंसा, क्या है पूरा मामला?

तुर्की के अधिकारियों ने कई शहरों में फैले सीरिया विरोधी दंगों के बाद 470 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है. इस बीच बॉर्डर पर तुर्की के सैनिकों पर हिंसा से नाराज सीरियाई लोगों की ओर से गोलीबारी की गई, जिसके बाद अंकारा ने मंगलवार को उत्तर-पश्चिमी सीरिया में अपनी मुख्य बॉर्डर क्रॉसिंग बंद कर दी.रॉयटर्स के मुताबिक तुर्की के गृह मंत्री अली येरलिकाया ने बताया कि पुलिस ने रविवार देर रात शुरू हुई अशांति को फैलाने के लिए पूरे देश में सीरियाई समुदाय को निशाना बनाकर किए गए हमलों में शामिल 474 लोगों को हिरासत में लिया.एक सीमा अधिकारी ने रॉयटर्स को बताया कि सोमवार देर रात, तुर्की ने अशांति के जवाब में बाब अल हवा सीमा क्रॉसिंग को अगले आदेश तक बंद कर दिया, जो 30 लाख से अधिक निवासियों के लिए मुख्य व्यापार और यात्री मार्ग है. इसके साथ ही बाब अल सलाम और अन्य छोटी क्रॉसिंग को भी बंद कर दिया गया.

क्यों फैली तुर्की में हिंसा
सीरियाई लोगों की संपत्तियों और वाहनों में तोड़फोड़ की गई और उन्हें आग के हवाले कर दिया गया. हिंसा सोशल मीडिया पर आई उन खबरों के बाद हुई, जिसमें कहा गया था कि एक सीरियाई शख्स ने अपनी एक रिश्तेदार बच्ची का यौन शोषण किया. गृहमंत्री ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है.तुर्की की एमआईटी खुफिया एजेंसी ने एक बयान में कहा कि हिंसा हते, गाजियांटेप, कोन्या, बर्सा और इस्तांबुल जिले के प्रांतों में फैल गई. सोशल मीडिया पर कुछ सीरियाई लोगों के घायल होने की खबरें भी आई हैं.

सीरियाई इलाकों में हिंसा
इसके बाद, सैकड़ों नाराज सीरियाई विद्रोही-कब्जे वाले उत्तर-पश्चिमी सीरिया के कई शहरों में सड़कों पर उतर आए. यह एक ऐसा क्षेत्र है जहां तुर्की ने हजारों सैनिकों को रखा हुआ है और उसने एक ऐसा प्रभाव क्षेत्र बनाया है जिसने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद को इस पर फिर से नियंत्रण हासिल करने से रोक दिया है.सीरिया के सीमावर्ती शहर अफरीन में सबसे अधिक हिंसक झड़पें हुईं, जहां सशस्त्र प्रदर्शनकारियों और तुर्की सैनिकों के बीच गोलीबारी में कम से कम चार लोग मारे गए. अन्य जगहों पर सशस्त्र झड़पें हुईं, नागरिकों ने कई शहरों में तुर्की की गाड़ियों पर पत्थर फेंके और कुछ दफ्तरों पर तुर्की के झंडे को फाड़ दिया.कई तुर्की अधिकारियों ने सीरिया में अशांति को ‘उकसाने वाली कार्रवाई’ बताया. विदेश मंत्रालय ने कहा: ‘कैसेरी में हुई दुखद घटना का इस्तेमाल हमारी सीमाओं से परे उकसावे के आधार के रूप में करना गलत है.’

तुर्की के राष्ट्रपति ने क्या कहा?
मंगलवार को दिए गए भाषण में तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एर्दोगन ने आतंकवादी संगठनों से जुड़े ग्रुप्स पर ‘अराजकता की योजना’ बनाने का आरोप लगाया और हाल की घटनाओं के पीछे ‘गलत हाथों’ को उजागर करने की कसम खाई.कैबिनेट मीटिंग के बाद एर्दोगन ने कहा, ‘हम जानते हैं कि आतंकवादी संगठन के बचे हुए लोगों के साथ मिलकर कौन इस खेल को खेल रहा है. न तो हम और न ही हमारे सीरियाई भाई इस धूर्त जाल में फंसेंगे…हम नस्लवादी बर्बरता के आगे नहीं झुकेंगे.’एर्दोगान ने कहा कि 670,000 से अधिक लोग उत्तरी सीरिया के उन क्षेत्रों में लौट आए हैं, जहां तुर्की पिछले एक दशक से सुरक्षित क्षेत्र बनाने के लिए काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि शरणार्थी मुद्दे को तुर्की की आर्थिक वास्तविकताओं के अनुरूप मानवीय और नैतिक रूप से हल किया जाएगा, जो 3 मिलियन से अधिक सीरियाई युद्ध शरणार्थियों की मेजबानी कर रहा है.एर्दोगान ने पिछले शुक्रवार को कहा कि द्विपक्षीय संबंधों को बहाल करने में मदद के लिए असद के साथ बैठक संभव है.तुर्की ने 2011 के सीरियाई गृहयुद्ध के बाद सीरिया के साथ संबंध तोड़ दिए और असद को हटाने के इच्छुक विद्रोहियों का समर्थन किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *